India-China Standoff: एक साल बाद LAC पर फिर बिगड़ सकते हैं हालात! सैन्य शक्ति बढ़ा रहा है चीन

नई दिल्ली. पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) में भारतीय और चीनी सेना (Chinese Army) का बीच हुई झड़प को एक साल बीत चुका है. डिसइंगेजमेंट और सैन्य सहमति की खबरों के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर हालात ठीक नहीं हैं. रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि चीन अब ‘गहरे इलाकों’ के साथ-साथ एलएसी पर भी अपनी सैन्य शक्ति बढ़ा रहा है. पड़ोसी के इस कदम से सीमा पर हालात सामान्य होने के संकेत नहीं मिल रहे हैं.

जैसे-जैसे क्षेत्र में सर्दियों का प्रभाव कम हो रहा है. वैसे ही चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने एलएसी से 25 से 120 किमी अंदर तक अपने अस्थाई व्यवस्था को स्थाई करने का काम तेज कर दिया है. टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को बताया, ‘पूर्वी लद्दाख के अग्रिम मोर्चों पर पीएलए की नई टुकड़ियां नहीं आई हैं. लेकिन चीन ने तनाव वाले क्षेत्र में सैन्य शक्ति बढ़ाने के बीच बलों की अच्छी खासी संख्या को बरकरार रखा है.’

उन्होंने बताया, ‘उदाहरण के लिए हाल ही के कुछ दिनों में रूटॉग कंट्री इलाके में काफी ज्यादा गतिविधि देखी गई है. यह इलाका पैंगोन्ग त्सो के मचान क्षेत्र के रूप में काम कर सकता है, क्योंकि यह करीब 100 किमी की दूरी पर है.’ उन्होंने जानकारी दी ‘पीएलए बेहतर सड़क और संपर्क के कारण तेजी से काम कर सकती है.’

बीते साल 5-6 मी को पैंगोन्ग त्सो के उत्तरी किनारे पर चीनी और भारतीय सेना के बीच बड़ी झड़प हो गई थी. इसमें दर्जनों सैनिक घायल हो गए थे. इसके बाद 9 मई की उत्तरी सिक्किम के नाकू ला में भी इस तरह की घटना हुई थी. उस दौरान चीन ने अचानक क्षेत्र में अपने बलों की संख्या बढ़ा ली थी. इसके बाद भारत ने भी प्रतिक्रिया देते हुए तीन अतिरिक्त डिविजन्स को तैनात कर दिया था. हर डिविजन में 10 हजार से लेकर 12 हजार तक सैनिक मौजूद थे.

सैन्य चर्चा का परिणाम क्या हुआ
दोनों पक्षों के बीच 15 जून को गलवान घाटी में जमकर हिंसा हुई, जिसमें कई जवान शहीद हुए थे. हालांकि, कई कूटनीतिक और सैन्य वार्ता के बाद दोनों सेनाएं फरवरी में पैंगोन्ग त्सो से डिसइंगेजमेंट के लिए तैयार हो गई थीं. लेकिन तब से पीएलए ने गोगरा, हॉट स्प्रिंग्स, डेमचोक और देपसांग के मैदानों से हटने के लिए मना कर दिया था.

source:news18

0Shares
Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: