Akshaya Tritiya 2021: अक्षय तृतीया पर लॉकडाउन के कारण नहीं खरीद पा रहे गोल्ड, करें ये काम

कोरोना वायरस की दूसरी लहर (Coronavirus second wave) के चलते भारत के कई राज्यों में लॉकडाउन बढ़ा दिया गया है और कई जगहों पर इसकी अवधि बढ़ाए जाने के आसार नज़र आ रहे हैं. ऐसे में कई ऐसे त्योहार हैं जो इस लॉकडाउन की भेंट चढ़ चुके हैं और आगामी त्योहार भी इसके असर से अछूते नहीं बचेंगे. अक्षय तृतीया (Akshay tritiya 2021) भी ऐसा ही त्योहार है. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, अक्षय तृतीया के दिन सोने की खरीदारी करना शुभ माना जाता है. इस दिन कई लोग सोने के आभूषण, सोने के बिस्किट खरीदते हैं. माना जाता है कि अक्षय तृतीया के दिन सोना खरीदने से घर में धन की देवी मां लक्ष्मी का आशीर्वाद बना रहता है और घर में धन, धान्य और बरकत बनी रहती है.

अक्षय तृतीया को लेकर यह भी मान्यता है कि इस दिन किए जाने वाले दान का पुण्य कई गुना (अक्षय फल ) होकर वापिस मिलता है. ऐसे में लॉकडाउन में अक्षय तृतीया के दिन सोना कैसे खरीदें और माता लक्ष्मी की कृपा कैसे पाएं आप भी ये सोच रहें हैं? तो आइए जानते हैं इस समस्या का हल….

अक्षय तृतीया के दिन खरीदें ये:

अगर आप अक्षय तृतीया के दिन सोना नहीं खरीद पा रहे हैं तो आप जौ खरीद सकते हैं. जौ खरीदकर भगवान विष्णु को चढ़ाएं और विधिवत पूजा करें. भगवान विष्णु की पूजा करने के बाद जौ को लाल कपड़े में लपेटकर तिजोरी में या उस जगह पर रखें जहां पर आप रुपये, पैसे और गहने रखते हैं.

स्वर्ण का दान के समान है ये दान:

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, जौ का दान स्वर्ण का दान करने के बराबर है. ऐसे में ज्योतिष शास्त्री उन जातकों को जो सोना खरीदने या दान करने में सक्षम नहीं हैं उन्हें जौ खरीदकर पूजा करने की सलाह जी जाती है. जौ के दान को स्वर्ण के दान के बराबर माना गया है. लॉकडाउन के बीच आप जौ खरीदकर शगुन पूरा कर सकते हैं. आप चाहे तो किसी गरीब को जौ का दान भी कर सकते हैं.

ये दान है सबसे शुभ:

अक्षय तृतीया के दिन अनाज का दान करना शुभ माना जाता है. अक्षय तृतीया के दिन किसी भी चीज का दान करने से शुभ संदेश की प्राप्ति होती है. ऐसा कहा जाता है जो लोग कानून मामलों से परेशान होते हैं उन्हें जौ का दान अवश्य करना चाहिए.

source:news18

0Shares
Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: