जीवन बीमा पॉलिसी (LIC) का प्रीमियम ईपीएफ खाते से भी भर सकते हैं, जानिए कैसे

मुंबई . कोरोना के चलते बहुत सारे लोगों को आर्थिक संकट सामना करना पड़ रहा है. अगर आप भी किसी कारण एलआईसी (LIC) की जीवन बीमा पॉलिसी के प्रीमियम का भुगतान करने में आर्थिक समस्या का सामना कर रहे हैं तो अपने ईपीएफ (EPF) खाते का इस्तेमाल करके ये परेशानी दूर कर सकते हैं. ऐसे वक्त आपके ईपीएफ खाते की राशि आपकी LIC पॉलिसी का प्रीमियम भरने की समस्या का समाधान बन सकती है.

कोरोनाकाल में काम आ सकता है ये विकल्प

ऐसे कई लोग हैं जिनके लिए कोरोना की वजह से कम हुई सैलेरी के कारण पॉलिसी की आखिरी तारीख को किस्त का जुगाड कर पाना मुश्किल बन गया है. ऐसे कई लोग हैं जिनकी सेविंग्स खत्म हो चुकी है, सैलरी कट कर मिल रही है और वे अब आर्थिक तंगी का सामना कर रहे हैं. ऐसे हालात में LIC की जीवन बीमा पॉलिसी में डिफॉल्ट ना हो इसके लिए आप ईपीएफ खाते की राशि से इस समस्या का हल निकाल सकते हैं.

EPF राशि से LIC का प्रीमियम कैसे चुकाएं

अगर आप सैलरिड पर्सन हैं तो आपके EPF खाते से LIC की जीवन बीमा पॉलिसी का भुगतान करने ले लिए आपको EPFO (ऐम्प्लोयीज प्रेविडेंट फंड ओर्गेनाइजेशन) को सूचना देनी होगी. आप LIC की पॉलिसी खरीदते वक्त भी EPFO को ऐसी सूचना दे सकते हैं या बाद में कुछ किस्त का भुगतान होने के बाद फॉर्म 14 जमा करवा सकते हैं. ये फॉर्म EPFO की वेबसाइट पर उपलब्ध है. आपकी ऐप्लीकेशन को स्वीकृति मिलने के बाद आपके EPF खाते से किस्त की तारीख से पहले ही LIC का प्रीमियम अपने आप कट जाएगा.

इस सुविधा की कुछ सीमाऐं हैं

इस सुविधा का लाभ लेने से पहले इसके साथ जुड़ी कुछ सीमाओं को समझ लेना चाहिए.

– EPFO में आवेदन जमा करते वक्त आपके EPF खाते में कुल कॉन्ट्रिब्यूशन की रकम दो साल तक LIC का प्रीमियम अदा कर सके उतनी होनी जरूरी है.

– आपकी LIC पॉलिसी का सालाना प्रीमियम आपके EPF खाते में जमा होने वाली आपकी सालाना कॉन्ट्रिब्यूशन की अमाउंट से कम होना आवश्यक है.

क्या EPFO से LIC प्रीमियम का भुगतान करना सही है?

LIC प्रीमियम का भुगतान करने के लिए EPF खाते की राशि में से आपके कॉन्ट्रिब्यूशन को कम करना सही नहीं है. EPF का उद्देश्य लॉन्ग-टर्म रिटायरमेंट फंड बनाने का है. अभी की शॉर्ट-टर्म जरूरत को पूरा करने के लिए उसे कम करने में फाइनेंशियल एक्सपर्ट समझदारी का फैसला नहीं मानते.

अगर आप आर्थिक तंगी का सामना कर रहे हैं और आपके पास इमरजेंसी में काम आ सके ऐसा कोई फंड नहीं है तो पॉलिसी को लैप्स होने से बचाने के लिए ये विकल्प इस्तेमाल कर सकते हैं. बाद में, जब आपकी फाइनेंशियल हेल्थ अच्छी हो जाए, तब आप EPF खाते से बीमा के किस्त के भुगतान करने की सुविधा बंद करवा सकते हैं.

यदि आपके EPF खाते में पर्याप्त फंड नहीं होगा तो प्रीमियम का भुगतान अपने आप बंद हो जाएगा. इसलिए, आप अन्य विकल्प के जरिए लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी के प्रीमियम का भुगतान करें ये जरूरी है, वरना आपकी इंश्योरेंस पॉलिसी लैप्स हो सकती है.

source:news18
0Shares
Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: