CBSE Board Exam 2021: 12वीं की परीक्षाएं 15 जुलाई से 26 अगस्त के बीच, बदल सकता है पैटर्न!

नई दिल्ली. केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की ओर से 15 जुलाई से 26 अगस्त तक 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं आयोजित करने की उम्मीद है. ये खबर www.news18.com की ओर से सूत्रों के हवाले से दी गई है. सूत्रों के अनुसार सीबीएसई ने 15 जुलाई से 26 अगस्त के बीच परीक्षा आयोजित करने और सितंबर में परिणाम घोषित करने का प्रस्ताव रखा है. अंतिम फैसला 1 जून को होगा. सटीक डेटशीट भी 1 जून को या उसके बाद जारी की जाएगी.

12वीं की ऑफलाइन परीक्षा रद्द करने की मांग
बोर्ड परीक्षाएं ऑफलाइन मोड में आयोजित की जाएंगी. छात्रों का एक वर्ग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर कक्षा 12वीं की ऑफलाइन परीक्षा रद्द करने की मांग कर रहा है. 23 मई 2021 को बोर्ड परीक्षाओं को लेकर राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में हुई बैठक के बाद ट्वीटर पर सीसबीएसई बोर्ड परीक्षा रद्द करने का हैशटैग ट्रेंड करने लगा. इसके साथ ही छात्र व अभिभावक ट्वीट करने लगें. कई छात्र व अभिभावन परीक्षा के आयोजन को लेकर पक्ष में नहीं है.

23 मई 2021 को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में सीबीएसई सहित राज्यों की बोर्ड परीक्षा लेकर बैठक हुआ थी, जिसमें निर्णय लिया गया कि कोरोना के मामले कम होने के बाद सीबीएसई 12वीं बोर्ड की परीक्षा का आयोजन होगा.
परीक्षाओं के लिए होम सेंटर की मांग

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में राज्यों के शिक्षा मंत्रियों और शिक्षा सचिवों के साथ हुई उच्चस्तरीय बैठक में कई अहम बिंदुओं पर सहमति बनी है. सूत्रों के अनुसार दिल्ली को छोड़कर सभी राज्य 12वीं की बोर्ड परीक्षा आयोजित करने को तैयार हैं. इसके अलावा राज्यों ने परीक्षाओं के लिए होम सेंटर की मांग की. इसे भी मान लिए जाने की खबर है.

ये भी हैं ऑप्शन
सीबीएसई ने बोर्ड परीक्षा आयोजित करने को लेकर शिक्ष मंत्रालय के सामने दो विकल्प रखे हैं. एक विकल्प है, सिर्फ बड़े विषयों की परीक्षा आयोजित करना और दूसरा है सिर्फ 90 मिनट की परीक्षा. जिसमें सिर्फ ऑब्जेक्टिव टाइप प्रश्न पूछे जाएंगे.

सीबीएसई बोर्ड 12वीं की परीक्षाएं दो चरणों में हो सकती हैं. कई राज्यों ने इस पर सहमति जताई है. जिससे कि पहले चरण में जो विद्यार्थी परीक्षा में शामिल न हो सके वे दूसरी बार में होने वाली परीक्षा में बैंठ सकें. कोई भी विद्यार्थी परीक्षा देने से वंचित न रहे.

प्रमुख विषयों की ही परीक्षाएं 
बोर्ड परीक्षाओं को लेकर हुई बैठक में 12वीं की परीक्षाओं के आयोजन कर कई विकल्पों पर चर्चा की गई. जिनमें कुछ चुने हुए प्रमुख विषयों की ही परीक्षाएं कराने और उन्हीं के आधार पर बाकी विषयों का मूल्यांकन करने, 12वीं की परीक्षाएं स्कूल में ही आयोजित करने और परीक्षा का समय तीन घंटे के स्थान पर 1.5 घंटे करने, स्कूल में ही कॉपियां चेक करने सहित कई मुद्दों पर चर्चा की गई.

बोर्ड परीक्षाओं के आयोजन को लेकर सभी राज्यों से 25 मई 2021 तक लिखित में सुझाव मांगे गए हैं. उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों व शिक्षकों की सुरक्षा हमारे लिए सबसे अहम है.

परीक्षाएं किस फॉर्मेट में होगी
परीक्षाएं किस फॉर्मेट में होगी, कब होगी, कैसे होगी, इसकी जानकारी शिक्षा मंत्री निशंक 1 जून को देंगे. 1 जून को 12वीं की सीबीएससी परीक्षा की तारीखों का एलान होगा. सूत्रों की माने तो पिछले साल कोविड प्रोटोकॉल में जैसे जुलाई में परीक्षा हुई थी इस बार भी जुलाई में होने की संभावना है.

सिसोदिया ने की छात्रों के टीकाकरण की मांग
इसके अलावा दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने रविवार को केंद्र से कहा कि विद्यार्थियों का टीकाकरण करने से पहले 12वीं की बोर्ड परीक्षा कराना बड़ी भूल साबित होगी. सिसोदिया ने यह सुझाव शिक्षा मंत्रालय द्वारा बुलाई गई उच्च स्तरीय बैठक में दी. माना जा रहा है कि सरकार 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा पर अंतिम निर्णय ले सकती है, जो कोरोना वायरस की दूसरी महामारी की वजह से स्थगित कर दी गई थी.

source:news18

0Shares
Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: