मुंबई: 11 दिनों में ही हो गई महीने भर जितनी बारिश, IMD ने रविवार तक के लिए जारी किया हाई अलर्ट

मुंबई. मुंबई में बीते तीन दिनों से मूसलाधार बारिश जारी है. आलम यह है कि मानसून (Monsoon) के महज शुरुआती 11 दिनों में ही बरसात का आंकड़ा 505 मिलीमीटर के मासिक औसत को पार कर गया है. मुंबई में 565.2 मिमी बारिश दर्ज की जा चुकी है. कहा जा रहा है कि शुक्रवार रात से लेकर मंगलवार तक मुंबई में तेज बारिश हो सकती है. इस दौरान 200 मिमी बारिश होने का आनुमान है. मौसम विभाग ने मुंबई, ठाणे, रायगढ़ और रत्नागिरी में रविवार के लिए हाई अलर्ट (Rainfall High Alert) घोषित किया है.

रविवार को राज्य के कुछ हिस्सों में 24 घंटों में 204.5 मिमी तक बारिश होने की संभावना है. मंगलवार तक शहर के कोंकण इलाके में ऑरेंज अलर्ट जारी रहेगा. सांताक्रूज स्थित वेदर स्टेशन के मुताबिक, शुक्रवार रात 8:30 बजे तक 24 घंटों में मुंबई में 107 मिमी बारिश हुई है. मौसम विभाग के अधिकारियों का कहना है कि बंगाल की खाड़ी पर बन रहा कम दबाव वाला क्षेत्र 11 जून शुक्रवार तक पूरा तैयार हो जाएगा. इसके चलते दक्षिण-पश्चिम के मानसून से तेज बारिश आएगी, जो शुक्रवार रात से लेकर शनिवार सुबर तक महाराष्ट्र के लगभग हर तटीय क्षेत्र को कवर करेगी.

शहर के कोलाबा ऑब्जर्वेटरी ने शुक्रवार रात 8:30 बजे तक 24 घंटों में केवल 23.4 मिमी बारिश दर्ज की. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, भारी बारिश के बाद भी पीने के पानी की सप्लाई करने वाली 7 झीलों में पानी की कमी बनी हुई है. झीलों में कुल क्षमता के मुकाबले पानी का स्टॉक 12.68 फीसदी है. बीते साल यह आंकड़ा 13.63 प्रतिशत पर था. शहर में पानी भातसा, मध्य वैतरणा, ऊपरी वैतरणा, तानसा और मोदक सागर से आता है. ये ठाणे और नाशिक जिलों में हैं.

BMC ने शुरू की कार्रवाई
मौसम विभाग की तरफ से मिली चेतावनी के बाद बृह्नमुंबई महानगरपालिका एक्शन मोड में आ गई है. निचले इलाकों और मीठी नदी के पास रहने वालों को अन्य जगहों पर शिफ्ट करने की तैयारी की जा रही है. इस दौरान वार्ड कार्यालयों को गिरे पेड़ों को हटाने का काम दिया गया है. साथ ही आपातकालीन हालात के लिए तैयार रहने को कहा गया है. महाराष्ट्र हाउसिंग एंड एरिया डेवलपमेंट अथॉरिटी, फायर ब्रिगेड, एनडीआरएप और राज्य आपदा प्रबंधन बलों को तैयार रहने के लिए कहा गया है.

BEST और अडाणी इलेक्ट्रिसिटी को भी हाईअलर्ट पर रखा गया है. बीएमसी ने स्टॉर्म वॉटर ड्रेन डिपार्टमेंट को सभी 6 वॉटर पम्पिंग स्टेशन्स की जांच और डीजल जनरेटर सेट्स तैयार रखने के लिए कहा है. मुंबई में साल 2015 में आखिरी बार एक महीने में सबसे ज्यादा बारिश दर्ज की गई थी. उस दौरान 1106.7 मिमी बारिश हुई थी.

source:news18

0Shares
Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: